गुलाब कौर - वह महिला जिनकी वीरता और बेबाकी ने भारतीयों के लिए बेहतर दुनिया का मार्ग प्रशस्त किया

गुलाब कौर - वह महिला जिनकी वीरता और बेबाकी ने भारतीयों के लिए बेहतर दुनिया का मार्ग प्रशस्त किया

गुलाब कौर ने पत्रकार के रूप में खुद को प्रस्तुत करते हुए गदर पार्टी के सदस्यों को हथियार बांटे।

महिलाएं भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का एक अभिन्न अंग रही हैं। उन्होंने न केवल भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन को व्यापक रूप से फैलाने में बल्कि देश से सती और लैंगिक असमानता जैसी बुरी सामाजिक प्रथाओं को खत्म करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। ऐसी कई उल्लेखनीय महिलाओं की सूची में एक नाम 'गुलाब कौर' का था, जिन्हे गदरी 'गुलाब कौर' का नाम दिया गया क्योंकि वो एक बेबाक़ महिला थीं जिन्होंने अपने देश की आज़ादी के लिए अपने पति को छोड़ दिया।

बीबी गुलाब कौर का जन्म 1890 में पंजाब के संगरूर के बख्शीवाला गांव में एक गरीब किसान परिवार में हुआ था। बहुत कम उम्र में, उनकी शादी मान सिंह से कर दी गई थी और वे दोनों अपने गरीब परिवारों से बेहतर भविष्य की तलाश में थे, क्योंकि उनके जैसे कई किसानों ने अपनी आजीविका और खेतों को ब्रिटिश नीतियों के कारण खो दिया था। वे अंततः एक बेहतर जीवन के लिए अमेरिका प्रवास करना चाहते थे लेकिन पहले मनीला चले गए।

ग़दर की आग

मनीला में, गुलाब कौर ने उपमहाद्वीप को ब्रिटिश शासन से मुक्त करने के उद्देश्य से ग़दर पार्टी नामक सिख पंजाबियों द्वारा स्थापित एक संगठन के लेक्चरों में भाग लिया। पार्टी के नेताओं, बाबा हाफिज अब्दुल्ला (फज्जा), बाबा बंता सिंह और बाबा हरनाम सिंह (टुंडीलत) ने उन्हें काफी हद तक प्रेरित किया। पार्टी ने अमेरिका, कनाडा, फिलीपींस, हांगकांग और सिंगापुर जैसे देशों में भारतीय प्रवासियों की स्वतंत्रता के लिए #GhadharMovement (1913-14) का गठन किया। ऐसा माना जाता है कि गुलाब कौर और उनके पति दोनों ग़दर लहर में शामिल होने के लिए भारत लौटने के लिए तैयार थे। हालांकि, वापसी के समय, मान सिंह ने अमेरिका की अपनी यात्रा को आगे बढ़ाने का फैसला किया। गुलाब कौर ने ग़दर आंदोलन में शामिल होने के लिए अपने पति को छोड़ दिया और फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

अंत की शुरुआत

गुलाब कौर ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े साहित्य को लोगों के बीच बांटने में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने प्रिंटिंग प्रेस पर कड़ी निगरानी रखी और पत्रकार के रूप में खुद को प्रस्तुत करते हुए गदर पार्टी के सदस्यों को हथियार बांटे। उन्होंने क्रांतिकारी साहित्य को आगे बढ़ाकर अन्य लोगों को भी ग़दर पार्टी में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया। पचास अन्य ग़दरियों के साथ, वह एसएस कोरिया और तोशा मारू जहाजों के माध्यम से नौकाओं से भारत चली गई। वह कपूरथला, होशियारपुर और जालंधर के गांवों में सक्रिय थी।

ब्रिटिश शासन के तहत उनके देशद्रोही कारनामों के लिए, गुलाब कौर को लाहौर में शाही किला नामक किले में गिरफ्तार किया गया था। इसके बावजूद, उन्होंने अपना काम जारी रखा और अंग्रेजों के अत्याचार के आगे नहीं झुकी। इसके कारण उन्हें वहां के गार्डों के क्रोध का सामना करना पड़ा और लगभग दो वर्षों तक उसे लगातार प्रताड़ित किया गया। आखिरकार, 1941 में एक बीमारी के कारण उनकी मृत्यु हो गई।

अफसोस की बात है कि स्वतंत्रता सेनानियों, विशेषकर गुलाब कौर जैसी महिलाओं के योगदान को हमारे इतिहास में उनका उल्लेख न करके बहुत अनदेखा किया गया है, जिसके कारण वे कई लोगों के लिए अज्ञात हैं। कौर एक ऐसी महिला हैं जिन्होंने सभी कठिनाइयों के बावजूद अपना पूरा जीवन भारत के स्वतंत्रता संग्राम के लिए समर्पित कर दिया, उन्होंने हमारे इतिहास में एक बहादुर शहीद के रूप में एक अमित छाप छोड़ी।

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.