मोटर बीमा
मोटर बीमा

मोटर बीमा हुआ सस्ता ! अब आप डिस्टेंस और ड्राइविंग पैटर्न के आधार पर अपना प्रीमियम खुद तय कर सकते हैं

नए मोटर बीमा नियम के अंतर्गत आप रोजाना जितनी दूरी वाहन से तय करते हैं, उस हिसाब से बीमा का प्रीमियम तय कर सकते हैं।

मोटर बीमा को अधिक किफायती बनाने के साथ-साथ बाजार में इसकी पकड़ बढ़ाने के लिए, भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने बीमाकर्ताओं को पे ऐज़ यू ड्राइव (Pay as You Drive), पे हाउ यू ड्राइव (Pay How You Drive) और फ्लोटर पॉलिसियों जैसे फीचर्स दिए हैं। अब आपको अपने वाहन का बीमा यानी इंश्योरेंस कराने के लिए बड़़ी राशि खर्च नहीं करनी होगी।

वाहन मालिक अब खुद तय कर सकेंगे कि इंश्योरेंस के लिए कितनी राशि अदा करनी है। बुधवार को ये नया नियम लाया गया है और इसे तत्काल प्रभाव से लागू भी कर दिया गया है। इंश्योरेंस रेगुलेटर (insurance regulator) ने अब जनरल इंश्योरेंस को एड-ऑन्स देने की अनुमति दी है जिसके अंतर्गत बेहतर ड्राइविंग के तरीकों से लाभ उठाया जा सकता है।

गाड़ी जितनी चलेगी उतना ही भरना होगा प्रीमियम

नए मोटर इंश्योरेंस नियम
नए मोटर इंश्योरेंस नियम

नए मोटर इंश्योरेंस नियम के अंतर्गत आप रोजाना जितनी दूरी वाहन से तय करते हैं, उस हिसाब से बीमा का प्रीमियम तय कर सकते हैं। अगर आप रोजाना कम दूरी तय करने के लिए वाहन का इस्तेमाल करते हैं तो आपको इसके लिए कम प्रीमियम देना होगा। इसलिए, पारंपरिक बीमा पॉलिसियों के अलावा, पे ऐज़ यू ड्राइव (Pay-as-You-Drive) या पे हाउ यू ड्राइव (Pay-How-You-Drive ऐड-ऑन का विकल्प चुनने से उन ग्राहकों को लाभ होगा जो अपने वाहनों का कम उपयोग करते हैं, अपने वाहनों की देखभाल करते हैं, यातायात नियमों का पालन करते हैं और अच्छा ड्राइविंग व्यवहार बनाए रखते हैं।

वास्तव में, प्रत्येक व्यक्ति के ड्राइविंग और वाहन उपयोग के पैटर्न अलग-अलग होते हैं। नए ऐड-ऑन परमिट के साथ, खुद की डैमेज पॉलिसी कवरेज को अब ग्राहक के ड्राइविंग पैटर्न, सामान्य रखरखाव, माइलेज और वाहन उपयोग के पैटर्न के आधार पर तैयार किया जा सकता है ताकि उन्हें सर्वोत्तम सुविधाएं प्रदान की जा सकें।

IRDA के इस कदम का स्वागत करते हुए, बीमा कंपनियों ने कहा कि IRDAI का निर्णय बहुत कस्टमर सेंट्रिक है और एक सकारात्मक कदम है। जबकि निर्णय के नतीजे विवरण बाद में सामने आएंगे, इससे ग्राहकों का विश्वास बढ़ेगा।

मोटर इंश्योरेंस
मोटर इंश्योरेंस

इंश्योरेंस रेगुलेटर (insurance regulator) IRDAI के अनुसार, खराब या जल्दबाजी में ड्राइविंग करने पर अधिक प्रीमियम लगेगा। इसमें कहा गया है कि ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम या जीपीएस (Global Positioning System or GPS) के जरिए किसी वाहन के ड्राइविंग पैटर्न की निगरानी की जाएगी। मोबाइल एप या वाहन में एक छोटा सा उपकरण लगाया जाएगा, जो इस जानकारी को साझा करेगा। इसके अलावा जीपीएस की मदद से बीमा कंपनी किसी खास वाहन के ड्राइविंग पैटर्न को भी जान सकेगी। तकनीक की मदद से हर वाहन एक ड्राइविंग स्कोर अर्जित करेगा जो मालिक द्वारा भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम का फैसला करेगा।

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com