भारतीय नौसेना को बोइंग कंपनी ने 12वां P-8I विमान सौंपा, जानें क्या हैं इसकी विशेषताएं

भारतीय नौसेना को बोइंग कंपनी ने 12वां P-8I विमान सौंपा, जानें क्या हैं इसकी विशेषताएं

P-8I विमान, पी-8ए-पोसाइडन विमान का एक प्रकार है।

भारतीय नौसेना को अमेरिकी एयरोस्पेस कंपनी बोइंग से अपना 12वां पी-8आई पोसाइडन विमान ((P-8I maritime patrol aircraft) प्राप्त हुआ। 23 फरवरी को बोइंग ने भारत को 12वां P-8I पोसीडॉन समुद्री गश्ती विमान सौंप दिया। यह भारतीय रक्षा मंत्रालय के साथ 2016 में हुए अनुबंध के तहत वितरित किए गए चार अतिरिक्त विमानों में से चौथा विमान है। आपको बता दें, इससे पहले भारतीय नौसेना को 11वां P-8I विमान अक्टूबर 2021 में मिला था। केवल अमेरिका के पास भारत की अपेक्षा अधिक P-8I विमान हैं।

2.42 बिलियन डॉलर में हुआ सौदा

[rebelmouse-proxy-image https://media.rbl.ms/image?u=%2Fwp-content%2Fuploads%2F2021%2F05%2FUnited-States-Approves-Possible-FMS-of-6-P-8I-Maritime-Patrol-Aircraft-to-India.jpg&ho=https%3A%2F%2Fwww.navalnews.com&s=622&h=716aed129972fcccedb5ed07bf39f8454e8f987fac70835ec1ca52eccde914fa&size=980x&c=4057630938 photo_credit="" pin_description="" dam="0" site_id=20074994 caption="" photo_credit_src="https://www.navalnews.com/wp-content/uploads/2021/05/United-States-Approves-Possible-FMS-of-6-P-8I-Maritime-Patrol-Aircraft-to-India.jpg" crop_info="%7B%22image%22%3A%20%22https%3A//media.rbl.ms/image%3Fu%3D%252Fwp-content%252Fuploads%252F2021%252F05%252FUnited-States-Approves-Possible-FMS-of-6-P-8I-Maritime-Patrol-Aircraft-to-India.jpg%26ho%3Dhttps%253A%252F%252Fwww.navalnews.com%26s%3D622%26h%3D716aed129972fcccedb5ed07bf39f8454e8f987fac70835ec1ca52eccde914fa%26size%3D980x%26c%3D4057630938%22%7D" expand=1]

भारतीय नौसेना के बेड़े का एक अभिन्न अंग, P-8I ने 2013 में पहली बार शामिल किए जाने के बाद से 35,000 घंटों की उड़ान को पूरा कर चुका है। P-8I विमान पी-8ए-पोसाइडन विमान का एक प्रकार है, बोइंग ने इसे अमेरिकी नौसेना के पुराने पी-3 बेड़े के प्रतिस्थापन के रूप में विकसित किया है। मई 2021 में अमेरिकी विदेश विभाग ने छह पी-8आई गश्ती विमानों और संबंधित उपकरणों की प्रस्तावित बिक्री को मंजूरी दी थी। इसके एक सौदे की लागत 2.42 बिलियन डॉलर की थी।

नवंबर 2019 में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में रक्षा अधिग्रहण परिषद ने बोइंग द्वारा निर्मित विमान की खरीद को मंजूरी दी थी। यह विमान लंबी दूरी की समुद्री निरानी करने में सक्षम है। 1 जनवरी 2009 को आठ विमानों के लिए लगभग 2.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर के अनुबंध को मंजूरी दी गई। इसके साथ ही भारतीय नौसेना पी-8 विमान के लिए पहली अंतरराष्ट्रीय ग्राहक बन गई। भारत में पहला विमान 15 मई 2013 को आया था।

विमान की विशेषताएं

[youtube https://www.youtube.com/watch?v=3pNDiOTfA0U caption="Indian Navy receives its 12th P8I Aircraft from Boeing" site_id=20074994 photo_credit="" expand=1] Indian Navy receives its 12th P8I Aircraft from Boeing

P-8I विमान लगभग 10 घंटे तक की उच्च गति और मजबूती के साथ तत्काल जवाबी प्रतिक्रिया देने में सक्षम है। इसके साथ ही भारत के विस्तारित क्षेत्रों पर नजर भी रखेगा। यह विमान लंबी दूरी की पनडुब्बी रोधी युद्ध, खुफिया निगरानी, सतह-विरोधी और व्यापक क्षेत्र, समुद्री और तटवर्ती अभियानों के समर्थन में टोही के लिए सुसज्जित है। इस विमान की खासियत है कि इसके संचार और सेंसर सूट में रक्षा सार्वजनिक उपक्रमों और निजी निर्माताओं की ओर से विकसित किए गए स्वदेशी उपकरण भी शामिल हैं।

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com