इंदौर में दिवाली की तरह मनाया जाएगा गौरव दिवस, 25 मई से 31 मई तक होंगे थीम बेस्ड आयोजन

इंदौर में दिवाली की तरह मनाया जाएगा गौरव दिवस, 25 मई से 31 मई तक होंगे थीम बेस्ड आयोजन

शहर के गौरवशाली इतिहास पर डॉक्यूमेंट्री तैयार की जाएगी जिसे यहां के नागरिक सात दिवसीय कार्यक्रम में देख सकेंगे।

इंदौर इस महीने के अंत में गौरव दिवस मनाने की तैयारी कर रहा है और 7 दिनों तक चलने वाला यह समारोह 25 मई से शुरू होगा। उत्सव के प्रत्येक दिन की एक थीम रहेगी और उसी आधार पर कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। गौरव दिवस मनाने के लिए मुख्यमंत्री के आदेश के अनुसार उत्सव की योजना बनाई जा रही है। समारोह के अलावा इंदौर के इतिहास को शहर के युवाओं से भी साझा किया जाएगा। लोगों को उत्सव में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। अधिकारियों के द्वारा दिए गए निर्देश के अनुसार दिवाली की तरह ही लोगों को अपने घरों में दीया जलाने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

उत्सव का कार्यक्रम तैयार

एक बैठक में, अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने गौरव दिवस समारोह के लिए कार्यक्रमों की एक सूची तैयार की है। यह भी तय किया गया है कि इस अवसर पर 'इंदौर गान' या गान भी तैयार किया जाएगा। साथ ही इंदौर के इतिहास पर एक डॉक्युमेंट्री भी बनाई जाएगी। इस डॉक्यूमेंट्री फिल्म को 7 दिवसीय उत्सव के दौरान प्रदर्शित किया जाएगा। समारोह का मुख्य कार्यक्रम 31 मई को राजवाड़ा में ऐतिहासिक महत्व के कारण आयोजित किया जाएगा।

प्रत्येक दिन के कार्यक्रमों की सूची नीचे दी गयी हैं -

25 मई - जल संरक्षण

26 मई - खेल गतिविधियां

27 मई - महिला अधिकारिता

28 मई - कला और साहित्य कार्यक्रम

29 मई - वाणिज्यिक और औद्योगिक अधिकारिता

30 मई - स्टार्टअप और आईआईटी दिवस

31 मई - अंतिम कार्यक्रम, जिसे मुख्यमंत्री संबोधित करेंगे

सभी विषयों में प्रगतिशील कार्य होगा। पहले दिन वर्षा जल संचयन प्रणालियों की स्थापना को प्रोत्साहित किया जाएगा और अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि प्रत्येक वार्ड इनसे सुसज्जित हो। दूसरे दिन स्थानीय और पारंपरिक खेलों को बढ़ावा दिया जाएगा और सेलिब्रिटी खिलाड़ियों को भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। तीसरे दिन उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को पुरस्कृत किया जाएगा। चौथे दिन स्थानीय कलाकार और साहित्यकार अपनी कृतियों का प्रदर्शन कर सकेंगे। 5वें दिन व्यावसायिक एवं औद्योगिक विकास पर सेमिनार का आयोजन होगा। पूरे शहर में व्यावसायिक भवनों को भी सजाया जाएगा। छठे दिन स्टार्टअप्स को बढ़ावा मिलेगा। विश्वविद्यालय के छात्रों को शहर में सफल स्टार्टअप मालिकों के साथ बातचीत करने का मौका दिया जाएगा।

देवी अहिल्या की जयंती पर होगा गौरव दिवस का आयोजन

इससे पहले, राज्य के प्रत्येक शहर, गांव और शहर को अपना गौरव दिवस मनाने के लिए एक दिन तय करने का निर्देश मिला था। रानी अहिल्याबाई के समाज में उल्लेखनीय योगदान को ध्यान में रखते हुए, इंदौर के अधिकारियों ने देवी अहिल्याबाई होल्कर के जन्मदिन को इंदौर के गौरव दिवस के रूप में मनाने पर सहमति व्यक्त की है। उनके सम्मान में, 31 मई को शहर भर में एक जुलूस निकाला जाएगा। जुलूस अंततः रजवाड़ा में अंतिम कार्यक्रम में पहुंचेगा। अंतिम कार्यक्रम में उनके जीवन पर एक नाटक खेला जाएगा। एक प्रदर्शनी भी आयोजित की जाएगी जिसमें देश भर में रानी द्वारा स्थापित वास्तुकला और मंदिरों की प्रतिकृतियां शामिल होंगी।

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.