रुसीरानी गाँव
रुसीरानी गाँव

रुसीरानी गाँव - जयपुर के पास एक दूरस्थ गाँव जहाँ 2000 साल पहले की ग्रामीण संस्कृति संरक्षित है

दिलचस्प बात यह है कि 2000 साल पुराने रुसीरानी गाँव में बिजली और संचार सेवाओं जैसी आधुनिक सुविधाएं नहीं हैं।

किसी संस्कृति को जानने से अधिक रोमांचक कुछ नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक खाली किला, एक शानदार इमारत या यहां तक ​​कि आकर्षक वास्तुकला हमें उतना उत्साह नहीं दे सकेगी, जितना एक ऐसी यात्रा जिसमें स्थानीय व्यंजन बनाना सीखना या समुदाय के साथ एक अच्छी बातचीत का आनंद। या फिर प्रकृति के बीच शांतिपूर्वक समय बिताना शामिल हो। जयपुर के पास रुसीरानी गाँव आने वालों के लिए यही जीवन का रोमांच है।

अरावली के बीच बसे, इस विचित्र गांव ने दूर-दराज के पर्यटकों को अपनी दूरस्थ सुविधाओं और एकाकीपन के वातावरण से आकर्षित किया है जो उन्हें प्रकृति और ग्रामीण संस्कृति से फिर से जुड़ने में मदद करते हैं। वास्तव में रुसिरानी के ग्रामीणों की सेवा सत्कार में इतनी सादगी और गर्मजोशी है कि कोई भी हाई-एंड होटल इसका मुकाबला नहीं कर सकता।

एक 'परेशान रानी' का घर

रुसीरानी गाँव
रुसीरानी गाँव

रुसीरानी का शाब्दिक अर्थ है 'रूठी रानी' जो अलवर की रानी के संदर्भ में है, जिसके नाम पर गांव का नाम रखा गया है। यह लोकप्रिय माना जाता है कि राजा से परेशान होने के बाद वह अपना महल छोड़ कर इस गाँव में पहुँची, जहाँ उन्हें घर जैसा महसूस हुआ। कुछ लोग यह भी कहते हैं कि इस ग्रामीण क्षेत्र का उल्लेख एक भारतीय महाकाव्य में किया गया है और महाभारत शुरू होने से ठीक पहले पांडव भाइयों का घर था।

दिलचस्प बात यह है कि 2000 साल पुराने इस गांव में बिजली और संचार सेवाओं जैसी आधुनिक सुविधाएं नहीं हैं। इसके अलावा, परिवहन सुविधाएं भी काफी कमजोर हैं, जिससे यह राज्य के सबसे दूरस्थ क्षेत्रों में से एक है। गाँव का यही अस्तित्व 21वीं सदी के यात्रियों को इस जगह पर आकर्षित करता है और उन्हें एक प्रारंभिक सभ्यता जैसी जीवन शैली में शामिल हो जाते हैं!

रूसिरानी गांव कैसे उभरा

एनजीओ- इंस्पायर के स्थानीय युवा
एनजीओ- इंस्पायर के स्थानीय युवा

राजस्थान में श्रद्धेय स्थलों में से एक के रूप में रुसीरानी समुदाय ने तब लोकप्रियता हासिल की जब एनजीओ- इंस्पायर के स्थानीय युवाओं ने गांव में ग्रामीण पर्यटन की संभावनाओं को देखा। उन्होंने समझा की राजस्थान के चमकीले शहरों और कस्बों के विपरीत, दूर दराज़ से आने वाले जो पर्यटक राजस्थान में तकनीकी उपलब्धियों से इतर सांस्कृतिक जड़ों को समझने आते हैं, उनके लिए यह स्थान अनोखा है। एनजीओ ने ग्रामीणों के साथ मिलकर काम किया, गांव में समृद्धि लेकर आये और इस गांव की लड़कियों को उच्च शिक्षा तक पहुंचने में मदद की।

रुसीरानी गांव अनूठा अनुभव
रुसीरानी गांव अनूठा अनुभव

यह स्थान अपने शिव मंदिर के लिए सबसे प्रसिद्ध है, जिसके बारे में माना जाता है कि यह कम से कम हज़ार साल पुराना है ! इस प्रतिष्ठित वास्तुकला के अलावा, पर्यटक पारंपरिक घरों और हस्तशिल्प से भरे बाजारों को भी देख सकते हैं। तो कुछ दिन तकनीकी जीवन से दूर रहकर राजस्थान की समृद्ध संस्कृति की भव्यता और दूरस्थ जीवन के एकाकीपन को करीब से जीने के लिए रूसिरानी गाँव की यात्रा करें।

रुसीरानी गांव के मनोरम दृश्य एक अनूठा अनुभव प्रदान करते हैं और गांव में अछूती विरासत, मंदिर के खंडहर और बावड़ी हैं जो लोगों को इस जगह की यात्रा करने के लिए प्रेरित करते हैं।

रुसीरानी गाँव
जयपुर के ये 7 ऐतिहासिक गार्डन शहर के राजसी माहौल में एक शांत वातावरण जोड़ते हैं
रुसीरानी गाँव
जयपुर में 140 वर्षों से मिठास बाँट रहा है महावीर रबड़ी भंडार, अब विरासत संभाल रही है चौथी पीढ़ी
रुसीरानी गाँव
यदि आप जयपुर के शाही युग के रहन सहन का अनुभव करना चाहते हैं, तो हरि महल पैलेस में कुछ समय बिताएं
रुसीरानी गाँव
जयपुर बना 2 लैपर्ड रिज़र्व वाला भारत का इकलौता शहर

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com