बोट क्लब कानपुर
बोट क्लब कानपुर

कानपुर में बना यूपी का पहला राष्ट्रीय स्तर का बोट क्लब, 25 जून को ट्रायल के लिए बुलाए गए 50 खिलाड़ी

बोट क्लब को वॉटर स्पोर्ट्स, कैनोइंग और रोइंग के लॉन्चिंग पैड के रूप में शुरू किया जाएगा जिसके लिए ट्रायल 25 जून से यहां शुरू होंगे।

कानपुर में रोमांचक गतिविधियों और पर्यटन को बनाए रखने के लिए, गंगा बैराज में बोट क्लब को विकसित किया गया है। बोट क्लब की वजह से कानपुर देश में पर्यटन का बड़ा केंद्र बनेगा और यह राज्य का पहला राष्ट्रीय स्तर का बोट क्लब है। इस बोट क्लब को सिंचाई विभाग ने कानपुर डेवलपमेंट अथॉरिटी से मिले 13.50 करोड़ रुपये से विकसित किया है। अब 25 जून को यहां पर जल क्रीड़ा का ट्रायल होने वाला है। इस बोट क्लब के ट्रायल के लिए देशभर के अलग-अलग जिलों से 50 खिलाड़ी बुलाए गए हैं जो नेशनल कायकिंग एसोसिएशन के साथ ही उत्तर प्रदेश कायकिंग एवं कनोइंग एसोसिएशन से जुड़े हैं। कमिश्नर डॉ. राजशेखर ने ट्रायल आयोजन की जिम्मेदारी केडीए सचिव शत्रोहन वैश्य और क्लब के सचिव नीरज श्रीवास्तव को सौंपी है।

ट्रायल की शोभा बढ़ाएंगे वॉटर स्पोर्ट्स

बोट क्लब कानपुर
बोट क्लब कानपुर

लंबे इंतजार के बाद आखिरकार कानपुर बोट क्लब में वाटर स्पोर्ट्स ट्रायल किये जा रहे हैं। मंडलायुक्त डॉ. राजशेखर ने मंगलवार को एक बैठक कर बोट क्लब से संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी किए।

बोट क्लब पर फ्लोटिंग जेटी पर लोग सेल्फी भी ले सकेंगे। इससे पहले लोगों ने अटल घाट पर 2019 में फ्लोटिंग जेटी पर सेल्फी ली थी, जब यहां प्रधानमंत्री मोदी आए थे। क्लब के सचिव नीरज श्रीवास्तव ने बताया कि आयोजन की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

25 जून को आधा किलोमीटर दूर से पीएसी बैंड की धुनों पर मार्च पास्ट करती हुई 6 राफ्ट, दो मोटर बोट और दो स्कूटर बोट, बोट क्लब पहुंचेंगी। कानपुर के लोग पहली बार इस रोमांच का आनंद उठा सकेंगे।

बोट क्लब में नई स्थापना

बोट क्लब कानपुर
बोट क्लब कानपुर

25 जून को बोट क्लब पर शाम 04:10 बजे 10 बोट का मार्च पास्ट होगा। ये बोट बैराज के उस पार गंगा के किनारे से बोट क्लब की तरफ बढ़ेंगी और मार्च पास्ट करती हुई बोट क्लब के सामने फ्लोटिंग जेटी से होकर आगे बढ़ेंगी। 04:25 बजे पीएसी बंद की धुनों पर राष्ट्रगान होगा और 04:30 बजे गंगा से जुड़े गीत-संगीत का कार्यक्रम होगा। और उसके बाद अन्य निर्धारित कार्यक्रमों का लोग लुफ्त उठा सकेंगे। लोग यहां किराए पर उपलब्ध झोपड़ियों और कॉटेज में बैठ सकते हैं या आगे बढ़ने पर नदी के किनारे बने 500 मीटर लंबे फूलों, रंगीन-टाइल वाले रास्ते पर टहल सकते हैं। शाम को अँधेरा होने के बाद रुकने वाले लोग भी बोट क्लब के किनारे लगाए गए नाइट लैंप की सुंदरता और जीवंतता को देख सकेंगे।

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com