लखनऊ से जुड़े 5 साहित्यकार
लखनऊ से जुड़े 5 साहित्यकार

हिंदी दिवस - लखनऊ की नियति से जुड़े ये 5 साहित्यकार जिन्होंने हिंदी लेखन को एक नया आयाम दिया

लखनऊ से जुड़े इन 5 साहित्यकारों के स्वतंत्र विचार, शक्तिशाली साहित्यिक सृजन ने शहर को हिंदी साहित्य के अंतरिक्ष में एक असाधारण स्थान प्रदान किया।

1857 के आंदोलन की विफलता को देखने के बाद 1900 की पूर्वार्ध में लखनऊ एक बार फिर स्वतंत्र भारत की आकांक्षाओं के साथ आगे बढ़ रहा था। शहर अंग्रेजों के हाथों क्रूरता और मूल निवासियों के विनाश की कहानियां सुन रहा था। लखनऊ जिन परिवर्तन से होकर गुज़र रहा था वे वैचारिक भी थे और सामाजिक भी। पुन: जागृति के इस युग में लखनऊ का रिश्ता कुछ ऐसे युवाओं से जुड़ा जिनकी कलम की रचनाएं हिंदी साहित्य की अमूल्य धरोहर और आने वाले पीढ़ियों के लिए समाज का दर्पण और पथप्रदर्शक बन जाएंगी।

जहाँ यशपाल, अमृतलाल नागर और भगवतीचरण वर्मा लखनऊ की साहित्यिक त्रिवेणी के साहित्यकार थे। वे स्वाभिमानी, दृढ़ संकल्पी, सृजनात्मक साहित्य के शिल्पी और सफल सम्पादक थे। वहीँ, गौरा पंत शिवानी ने लखनऊ के परिवेश में बेहद सहजता से नारीवाद का आयाम दिया और जनमानस के नज़रिये को नारियों के विचारों की तरफ किया तो वहीँ, श्रीलाल शुक्ल ग्रामीण और शहरी जीवन के नकारात्मक पहलुओं को व्यंगात्मक रूप से पेश करके हिंदी साहित्य के सबसे अधिक पढ़े जाने लेखकों में से एक बन गए।

आईये जानते हैं की लखनऊ की नियति से जुड़े इन कालजयी लेखकों के बारे में जिनके स्वतंत्र विचार, शक्तिशाली साहित्यिक सृजन ने शहर को हिंदी साहित्य के अंतरिक्ष में एक असाधारण स्थान प्रदान किया।

अमृतलाल नागर

अमृतलाल नागर
अमृतलाल नागर

उत्तर प्रदेश के आगरा में जन्में अमृतलाल नागर की कलम से निकले साहित्यिक रत्नों ने उन्हें बीसवीं शताब्दी के सबसे अधिक पढ़े जाने वाले और सम्मानित हिंदी लेखकों में से एक बना दिया। उनकी शानदार रचनाएँ उनकी महान और गूढ़ दृष्टि के भरपूर प्रमाण प्रस्तुत करती हैं। नागरजी एकमात्र हिंदी लेखक हैं जिन्होंने दो सबसे प्रसिद्ध हिंदी कवियों – सूरदास और तुलसीदास के जीवन पर उपन्यास लिखे हैं। दशक 1940 के अंत में जब नागर जी लखनऊ आये तो यहीं के होकर रह गए। नागर जी की लिखावट में तेजी से बदलते लखनऊ की नज़ारे देखने और सुनने को मिलते हैं।

लखनऊ में उन्होंने अपने पहले प्रमुख उपन्यास, महाकाल (1947) पर काम करना शुरू किया, जिसे बाद में भूख के नाम से जाना गया, और फिर इसके बाद लघु कथाएँ और बच्चों की कहानियाँ लिखीं और 1953-1956 तक लखनऊ के ऑल इंडिया रेडियो में काम किया। जिसे बाद में उन्होंने एक फुल टाइम लेखक बनने के लिए छोड़ दिया।

लगभग उसी समय बूंद और समुद्र (1956) आया, जो एक उत्कृष्ट कृति है जिसे अभी भी हिंदी साहित्य के बेहतरीन उपन्यासों में से एक के रूप में दर्जा दिया गया है। लखनऊ में स्थापित, इस उपन्यास ने पाठकों की एक पूरी पीढ़ी को प्रेरित किया और नागरजी को महान भारतीय उपन्यासकारों की आकाशगंगा में एक स्थायी स्थान दिया, जो स्थान ताराशंकर बंद्योपाध्याय, बंकिम चंद्र चटर्जी, शरत चंद्र और प्रेमचंद का था।

नागर अपने समय के सबसे लोकप्रिय लेखक भी थे, जो नियमित रूप से पत्रिकाओं में और मंचों पर दिखाई देते थे। इतिहास और उपाख्यानों के अपने भंडार के साथ, नागर को अवध परंपराओं के अग्रणी के रूप में स्वीकार किया गया था। कई लोगों के लिए वह अपने जीवनकाल में लखनऊ तहज़ीब के सच्चे प्रतीक और प्रतिनिधि थे। लखनऊ के चौक में उनकी हवेली लेखकों, शोधार्थियों, थिएटर कलाकारों और उनसे मिलने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति के लिए एक खुला घर बना रहता था, और वे एक बहुत ही दयालु मेज़बान थे।

यशपाल

यशपाल
यशपाल

एक अथक स्वतंत्रता सेनानी और एक समग्र लेखक थे, जिनकी रचनाओं में भारत के भविष्य का गहन चिंतन नज़र आता है। उनकी रचनाओं में राष्ट्रीय एकता की झलक के साथ धर्म के बंधन से मुक्ति भी दिखती है। आजादी के बाद भारतीय समाज का स्वरूप क्या होगा। यह खयाल उनकी रचनाओं में व्याप्त है, शायद इसीलिए वे सरदार भगत सिंह के ख़ास थे और दोनों ने साथ में देश की स्वतंत्रता के लिए अपने प्राणों की आहुति देने की कसम खायी थी। बचपन की यातनाएं, भूमिगत विद्रोही भावना तथा सात वर्ष की लंबी जेल ने उन्हें तत्कालीन सामाजिक व आर्थिक ढांचे के विरुद्ध कर दिया। उनकी कहानी 'पिंजरे की उड़ान' 1939 में हिंदी साहित्य में अत्यधिक चर्चित हुई। उन्होंने अपनी ज्वलंत लेखनी से अंग्रेजी हुकूमत की नींदे हराम कर दी थीं।

यशपाल की प्रथम रचना ‘एक कहानी’ गुरुकुल कांगड़ी की पत्रिका में प्रकाशित हुई। यशपाल के लेखन की प्रमुख विधा उपन्यास है, लेकिन अपने लेखन की शुरूआत उन्होने कहानियों से ही की। उनकी कहानियाँ अपने समय की राजनीति से उस रूप में आक्रांत नहीं हैं, जैसे उनके उपन्यास। उनके कहानी-संग्रहों में पिंजरे की उड़ान, ज्ञानदान, भस्मावृत्त चिनगारी, फूलों का कुर्ता, धर्मयुद्ध, तुमने क्यों कहा था मैं सुन्दर हूँ और उत्तमी की माँ प्रमुख हैं।

कथाकार, निबंधकार, उपन्यासकार के रूप में यशपाल की हिंदी साहित्य को बहुत देन है। उनके प्रसिद्ध उपन्यास हैं दादा कामरेड व देशद्रोही । उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार भी दिया गया। उनका परिवार लखनऊ के महानगर इलाके में रहता है जहाँ यशपाल जी रहते थे और जहाँ उन्होंने 1976 में अंतिम सांस ली।

भगवती चरण वर्मा

भगवती चरण वर्मा
भगवती चरण वर्मा

भगवती चरण वर्मा साहब का जन्म 30 अगस्त 1903 को उत्तर प्रदेश के तहसील सफीपुर में एक प्रसिद्ध कायस्थ परिवार में हुआ था। उनकी कालजयी रचना 'चित्रलेखा' हिंदी साहित्य की प्रतिभूति मानी जाती जिस पर दो बार फिल्म बन चुकी है। 1957 में पूर्ण रूप से एक स्वतंत्र लेखक बनने से पहले भगवती चरण वर्मा जी का मुंबई फिल्म उद्योग में एक संक्षिप्त कार्यकाल था।

उन्होंने बॉम्बे में पटकथा लेखन, और बाद में उन्होंने एक हिंदी दैनिक नवजीवन का संपादन किया। उन्होंने भारतीय साहित्य में 17 से अधिक उपन्यासों का योगदान दिया इन्हे अत्यधिक सफलता मिली और उन्होंने रातोंरात प्रसिद्धि का शिखर छुआ। उन्होंने कुछ समय के लिए कलकत्ता फिल्म कॉर्पोरेशन में काम किया, उसके बाद एक साप्ताहिक पत्रिका विचार का संपादन किया। उन्होंने ऑल इंडिया रेडियो, लखनऊ में एक हिंदी सलाहकार के रूप में भी काम किया था और बाद में 1978 में, उन्हें भारतीय संसद के उच्च सदन, राज्य सभा के लिए नामित किया गया था।

श्रीलाल शुक्ला

श्रीलाल शुक्ला
श्रीलाल शुक्ला

20वीं शताब्दी के प्रमुख हिंदी लेखक जिन्होंने स्वतंत्रता के बाद के युग में भारतीय समाज में गिरते नैतिक मूल्यों को अपने उपन्यासों के माध्यम से उजागर किया। उनके लेखन में ग्रामीण और शहरी भारत में जीवन के नकारात्मक पहलुओं को व्यंग्यपूर्ण तरीके से उजागर किया गया है। उन्होंने मकान, सूनी घाटी का सूरज, पहला पड़ाव, बिसरामपुर का संत सहित दो दर्जन से अधिक पुस्तकें लिखी हैं।

उनकी सबसे प्रसिद्ध कृति राग दरबारी का 15 से अधिक भाषाओं में अनुवाद किया गया है। समाज के बारे में उनकी सटीक टिप्पणियों और हास्य की गहरी भावना ने राग दरबारी को एक बेस्टसेलर बना दिया। ग्रामीण जीवन के अतरंगी अनुभव और पल-पल परिवर्तित होते परिदृश्य को उन्होंने बारीकी से विश्‍लेषित किया। श्रीलाल शुक्ल जी का साहित्यिक कौशल, हालांकि, उनके शूरवीरों तक ही सीमित नहीं था, उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार, ज्ञानपीठ पुरस्कार, पद्म भूषण जैसे कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। वह लखनऊ के इंदिरा नगर में रहते थे।

गौरा पंत (शिवानी)

गौरा पंत (शिवानी)
गौरा पंत (शिवानी)

गौरा पंत जिन्हें शिवानी के नाम से भी जाना जाता था, एक बेहद प्रभावशाली नारीवादी कहानीकार थीं, जिनकी कहानियाँ पारंपरिक रूप से पुरुष-प्रधान समाज में अपने व्यक्तित्व और जीवन को पुनः प्राप्त करने के लिए एक महिला की यात्रा से परिपूर्ण थीं। यूँ तो शिवानी का जन्म 1924 में राजकोट, गुजरात में हुआ था लेकिन सुखदेव पंत से अपने विवाह के पश्चात वे लखनऊ आ गयीं और फिर अपने आखिरी समय तक यही रहीं।

लखनऊ में, वे 'लखनऊ महिला विद्यालय' की पहली छात्रा बनीं। शिवानी अपने कार्यों के माध्यम से चित्रित करती है कि कैसे एक पुरुष-प्रधान समाज में एक महिला को दबा दिया जाता है, भले ही उसे देवी या सती के रूप में स्थापित किया गया हो। शिवानी अपने लेखन के माध्यम से यही तर्क देती हैं की समाज में कई सुधारों के बाद भी, एक महिला की स्थिति वास्तव में कभी नहीं बदली है।

उनकी प्रसिद्ध रचनाओं में से एक चौदह फेरे है, जो अहिल्या नाम की एक महिला की कहानी है जो अपने पिता के फैसले का विरोध करती है कि उसकी इच्छा के खिलाफ उसकी शादी एक अहंकारी और रूढ़िवादी व्यक्ति से न हो। कहानी इस विचार की तीखी आलोचना है कि पुरुषों के पास एक महिला के जीवन की अध्यक्षता करने और उसके लिए निर्णय लेने की शक्ति है। इसके अलावा, शिवानी ने रतिविलाप में उस दर्द और उत्पीड़न का वर्णन किया है जो एक विधवा को भारत के भेदभावपूर्ण और नारीवादी समाज में सहन करना पड़ता है। शिवानी की कहानियां बेहद सहनशीलता से कही गयीं वीरता की कहानियां हैं और आज के समय में भी बेहद प्रासंगिक हैं।

लखनऊ से जुड़े 5 साहित्यकार
उत्तर प्रदेश की सर ज़मीन पर जन्में ये 10 क्रांतिकारी वीर यहीं की मिट्टी में सदा के लिए समा गए
लखनऊ से जुड़े 5 साहित्यकार
पद्मश्री डॉ विद्या बिंदु सिंह-अवधी लोक साहित्य को जनमानस तक सहजता से पहुंचाने वाली सुप्रसिद्ध लेखिका
लखनऊ से जुड़े 5 साहित्यकार
महादेवी वर्मा - हिंदी साहित्य की सबसे सशक्त लेखिका जिनकी कलम ने प्रत्येक जीव की पीड़ा को शब्द दिए

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com