लखनऊ की चिलचिलाती गर्मी से हैं परेशान तो उत्तराखंड के 'पंगोट' हिल स्टेशन की यात्रा करें
पंगोट

लखनऊ की चिलचिलाती गर्मी से हैं परेशान तो उत्तराखंड के 'पंगोट' हिल स्टेशन की यात्रा करें

नैनीताल से पंगोट की ओर 15 किमी की ड्राइव पर घाटियों और हिमालय के आश्चर्यजनक दृश्य दिखाई देते हैं। पंगोट घूमने के लिए कार से ट्रिप प्लान कर सकते हैं।

पिछले कुछ समय से लखनऊ की गर्मी से हम सभी थके और परेशान हैं, ऐसे में एक नार्मल तापमान में रहना एक लक्ज़री लगने लगा है। यही कारण है की लखनऊ के वातावरण से कुछ दिन की राहत के लिए हम सभी हिल स्टेशनों की सैर करने की तलाश में रहते हैं। यदि आप भी अपने ख़ास लोगों के साथ प्रकृति के मध्य रहना पसंद करते हैं। तो लखनऊ से 'पंगोट गाँव' (Pangot Village) की यात्रा आपकी तनावग्रस्त ज़िन्दगी को शांत करने में मदद करेगी और आपको प्रकृति की गोद में कुछ शांतिपूर्ण समय बिताने का अवसर देगी।

लखनऊ से 400 किमी दूर और नैनीताल (Nainital) से पंगोट (Pangot) की ओर 15 किमी की ड्राइव पर घाटियों और हिमालय के आश्चर्यजनक दृश्य दिखाई देते हैं। काफी हद तक मानव स्पर्श से अनछुआ रहने के कारण यह स्थान ख़ास है। और यहाँ सड़क के दोनों ओर समृद्ध ओक पेड़ (oak tree) और रोडोडेंड्रोन (Rhododendron) वन देखे जा सकते हैं।

पक्षियों और प्रकर्ति प्रेमियों के लिए ख़ास

पक्षियों की लगभग 500 प्रजातियों वाला पंगोट (Pangot) निश्चित रूप से पक्षी प्रेमियों और प्रकृति के फोटोग्राफरों के लिए एक स्वर्ग है। यहाँ पर बर्ड वॉचिंग और फोटोग्राफी के लिए किलबरी (Kilbury) और स्नो व्यू पॉइंट (Snow View point) दो सबसे पसंदीदा स्थान हैं। यहां तक कि अगर अमूमन आप पक्षियों को देखने में आनंद नहीं लेते हैं, तो पक्षियों का चहकना निश्चित रूप से आपका ध्यान आकर्षित करेगा और आपको उन्हें निहारने के लिए लुभाएगा। कुछ पक्षी जो आपको यहां देखने को मिल सकते हैं, वे हैं ग्रे केटबर्ड (Gray catbird) और लाल जंगल के पक्षी, टाएरेंट फ्लाईकैचरस (Tyrant flycatchers), चीर (Cheer pheasant) तीतर, कांटे की पूंछ और कोकला। भारतीय हिरण, बार्किंग हिरण और हिमालयी बकरी जैसे जानवर आसानी से देखे जा सकते हैं।

ट्रेक टू ब्रह्मस्थली

ब्राह्मणस्थली पांगोट
ब्राह्मणस्थली पांगोट

इस क्षेत्र में सबसे लोकप्रिय और आसान ट्रेकिंग ट्रेल्स में से एक ब्रह्मस्थली में है, जो पंगोट से 12 किमी आगे है। 2 किमी लंबा यह ट्रेक दोनों तरफ से हरी-भरी हरियाली से घिरा हुआ है। यह लगभग 9,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और आसपास के दृश्य बहुत खूबसूरत हैं। चोटी की पीक पर एक छोटा सा मंदिर है, जो इस जगह को और भी दिव्य बनाता है। पंगोट (Pangot) में और भी कई वॉकिंग ट्रेल विकल्प हैं, जिन्हें आप एक्सप्लोर कर सकते हैं। ट्रेकिंग के लिए निकलते समय अपने हाइकिंग शूज़ और डीएसएलआर को अपने साथ ले जाना न भूलें।

रहने के स्थान

नैनीताल
नैनीताल

पंगोट (Pangot) में ठहरने के लिए जंगल लोर बर्डिंग लॉज सबसे पसंदीदा जगहों में से एक है। यह देश के बेहतरीन और सबसे पुराने बर्डिंग लॉज में से एक है। कफल हाउस एक और जगह है जहां आप इस गांव में ठहरने का आनंद ले सकते हैं।

कैसे पहुंचे पंगोट

नैनीताल
नैनीताल

यदि आप हवाई यात्रा कर रहे हैं, तो निकटतम हवाई अड्डा पंत नगर हवाई अड्डा है, जो पंगोट (Pangot) से सिर्फ 58 किलोमीटर दूर है। निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है, जो पंगोट (Pangot) से लगभग 20 किलोमीटर दूर है। हवाई अड्डे/रेलहेड से, आप आसानी से कैब बुक कर सकते हैं यहां तक पहुंचने के लिए बस पकड़ सकते हैं। निजी और साथ ही सार्वजनिक बसें अक्सर पंगोट (Pangot) और आसपास के प्रसिद्ध कस्बों और शहरों के बीच चलती हैं।

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com