खुर्शीद मंज़िल- लखनऊ का नवाबी महल जहां ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज की नीव रखी गयी

खुर्शीद मंज़िल- लखनऊ का नवाबी महल जहां ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज की नीव रखी गयी

1857 के विद्रोह के दौरान, महल की रूपरेखा नष्ट हो गयी बगीचे, खेत और बाग़ युद्ध के मैदान में बदल गए और महल कई तोपों, तलवारों और शस्त्रों का घर बन गया।

अवध के नवाबों ने लखनऊ शहर को उत्कृष्ट वास्तुकला से समृद्ध कर दिया। शहर के चप्पे चप्पे में नवाबी वास्तुकला और कलात्मकता के उदाहरण नज़र आते हैं। उनके द्वारा विशिष्ट रूप से निर्मित अनेक स्मारकों और इमारतों में,खुर्शीद मंजिल को चुनम (चूना मोर्टार), लखौरी (पतली सपाट ईंटें) और प्लास्टर के काम से बनाया गया है। चूंकि, देश के इस हिस्से में पत्थरों या मार्बल को लाना करना बहुत महंगा था, इसलिए अधिकांश महल और इमारतें इसी सामग्री से बनाई गई थीं ताकि एक समान बनावट दी जा सके और निर्माण की लागत को कम किया जा सके। यह शाही भवन कैसे लखनऊ के शीर्ष स्कूलों में से एक में बदल गया, यह जानने के लिए आगे पढ़ें।

मुगल और यूरोपीय फैशन का अनोखा मिश्रण शैली

नवाबी इमारतों की एक और ख़ासियत है, विशेष रूप से लखनऊ में बनी इमारतों की, की इनकी निर्माण शैली इतनी लिबरल हुआ करती थी की उसमें भिन्न प्रकारों के इनोवेशन करना बेहद आसान था। जबकि कुछ इमारतों को मुगल शैली में इंडो-सरसेनिक शैली में डिजाइन किया गया है, उनमें से कई यूरोपीय शैली में बने हैं और अक्सर उस समय प्रचलित इन दोनों शैलियों के एक अनोखे मिश्रण में हैं।

खुर्शीद मंजिल एक दो मंजिला इमारत है जिसमें एक बड़ा केंद्रीय गुंबद और आठ बहुत ही विशिष्ट अष्टकोणीय टावर हैं, जो इमारत की ऊंचाई के बारबर बने हैं। हेक्सागोनल टावर्स, बैटलमेंट, खंदक और ड्रॉब्रिज जैसी कुछ विशेषताएं फ्रांसीसी उद्यमी, मेजर जनरल क्लाउड मार्टिन की इमारतों से ली गई थीं।

कैप्टन डंकन मैक लेओडो द्वारा निर्मित

सआदत अली खान द्वारा निर्मित महलों में से एक है मोती महल, जो खुर्शीद मंजिल से सटा हुआ है। खुर्शीद मंजिल का डिजाइन और निर्माण 1911 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए काम कर रहे कैप्टन डंकन मैक लेओड द्वारा किया गया था। उनकी सेवाओं को नवाब ने अपने भवनों की मरम्मत और निर्माण की देखरेख के लिए नियोजित किया था।

खुर्शीद मंजिल का निर्माण इसलिए शुरू किया गया क्योंकि नवाब सआदत अली खान, जो अवध प्रांत के छठे शासक थे, अपनी प्यारी पत्नी खुर्शीद ज़ादी के लिए एक सुंदर महल बनाना चाहते थे। दुर्भाग्य से, खुर्शीद ज़दी और नवाब सआदत अली खान दोनों की मृत्यु खुर्शीद मंजिल के पूरा होने से पहले ही हो गई थी। अवध के नवाब की पत्नी खुर्शीद ज़ादी के नाम पर दो इमारतें हैं। एक महल है और दूसरा समाधि है, लेकिन दिलचस्प बात यह है कि दोनों को अलग-अलग शैलियों में बनाया गया है।

जबकि उनके बेटे द्वारा उनकी मृत्यु के बाद बने उनके मकबरे का निर्माण मुगल शैली में किया गया है। जो महल उनके पति द्वारा उनके जीवनकाल में बनाया गया था, उसे यूरोपीय शैली की तर्ज पर बनाया गया। महल का नाम उनके नाम पर खुर्शीद मंजिल रखा गया है। यह सआदत अली खान के जीवनकाल में पूरा नहीं हो सका और 1818 में उनके बेटे गाजी-उद-दीन हैदर ने इसे पूरा किया।

1857 में स्वतंत्रता सेनानियों का मुख्यालय

1857 के सिपाही विद्रोह के दौरान, महल की रूपरेखा की नष्ट हो गयी क्यूंकि इमारत स्वतंत्रता सेनानियों के नियंत्रण में थी, और उनके द्वारा अपने मुख्यालय के रूप में इस्तेमाल की जा रही थी। बगीचों, खेतों और बागों को युद्ध के मैदान में बदल दिया गया था और कई तोपों, तलवारों और तोपों का घर बना दिया था। 17 नवंबर 1857 को ब्रिटिश जनरलों, आउट्राम और हैवलॉक और उनके कमांडर-इन-चीफ, कॉलिन कैंपबेल के नेतृत्व में तीन तरफा हमले के माध्यम से, इमारत पर अंग्रेजों द्वारा कब्जा कर लिया गया था।

ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज की उत्पत्ति

मेजर जनरल क्लॉड मार्टिन, जिनका महिलाओं की शिक्षा के लिए एक विशेष संस्थान खोलने का सपना था, 1871 में जब ब्रिटिश सरकार ने खुर्शीद मंजिल को ला मार्टिनियर के मैनेजमेंट के सामने पेश किया तो बेहद प्रफुल्लित हुईं। इस प्रकार, को महल शुरुआत में बेगम के लिए था एक विशेष यूरोपीय पब्लिक स्कूल में परिवर्तित कर दिया गया। यह अब ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज के रूप में लड़कियों के लिए शहर के सबसे प्रतिष्ठित स्कूलों में से एक के रूप में स्थापित है।

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com