लखनऊ का रूमी दरवाज़ा और इमामबाड़ा
लखनऊ का रूमी दरवाज़ा और इमामबाड़ा

लक्ष्मणपुर से लखनऊ - जानिये नामों और उपाधियों के माध्यम से लखनऊ का ऐतिहासिक सफर

जानकारों का कहना है कि लखनऊ, लक्ष्मणपुर या लक्ष्मणावती के प्राचीन प्रांत का एक हिस्सा था, जिस पर भगवान राम के भाई लक्ष्मण का शासन था।

ऐसा कहा जाता है कि आपके शहर के परिवेश का आपकी शख़्सियत पर गहरा असर होता है। एक शहर की भाषा, रहन-सहन, तहज़ीब सब कुल मिलाकर हमारे व्यक्तित्व और पसंद- नापसंद को आकार देते हैं। ऐसे में जिन लोगों को लखनऊ से आने का सौभाग्य मिला है, वे इस बात के मूल्य और सम्मान को जानते हैं। नवाब कहलाने से लेकर हमारी कला, संस्कृति और कविता की सर्वोच्चता तक, हमें अपने शहर पर गर्व है और यह सब हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के कारण है। इसी भावना को टटोलते हुए, यहां कुछ उपाधियों या शीर्षकों की एक सूची दी गई है जिनसे लखनऊ को नवाज़ा गया है। ये शीर्षक यहाँ के विस्तृत इतिहास, विदेशी प्रभाव और निरंतर होने वाले परिवर्तनों पर आधारित हैं।

लक्ष्मणपुर से लखनऊ

लखनऊ
लखनऊ

लक्ष्मणपुर से लखनऊ जानकारों का कहना है कि लखनऊ लक्ष्मणपुर या लक्ष्मणावती के प्राचीन प्रांत का एक हिस्सा था, जिस पर भगवान राम के भाई लक्ष्मण का शासन था। तब से, लखनऊ के नाम की यात्रा नामकरण की कई प्रक्रियाओं से गुज़री है, ठीक 11वीं शताब्दी ईस्वी में लक्ष्मणपुरी से लखनपुर और अंततः लखनऊ तक।

एक अन्य सिद्धांत में कहा गया है कि लखनऊ का नाम देवी लक्ष्मी के नाम पर रखा गया था। इस सिद्धांत के अनुसार, शहर को शुरू में लक्ष्मणौती कहा जाता था, लेकिन बाद में लखनऊ बनने से पहले इसे लक्ष्मणौत, और लखनौ के नाम से जाना जाने लगा।

कॉन्स्टेंटिनोपल ऑफ़ दी ईस्ट

लखनऊ रूमी दरवाज़ा
लखनऊ रूमी दरवाज़ा

अपनी समृद्ध संस्कृति के अलावा, लखनऊ अपने विस्मयकारी स्थापत्य रत्नों के लिए भी जाना जाता है। शानदार रूमी दरवाज़े से लेकर जटिल रूप से निर्मित भव्य इमामबाड़ों तक, शहर में कई चमत्कार हैं। शहर को यूं ही नहीं पूर्व का कॉन्स्टेंटिनोपल (Constantinople) कहा गया है।

इस्तांबुल (तत्कालीन कॉन्स्टेंटिनोपल) और रूमी दरवाजा के मेहराब और गुंबदों बीच एक अनोखी समानता के साथ, रूमी दरवाज़े के प्रवेश द्वार को कॉन्स्टेंटिनोपल के प्रवेश द्वार के समान कहा जाता है। यही कारण है की लखनऊ पूर्व के कॉन्स्टेंटिनोपल के रूप में प्रसिद्ध है।

नवाबों का शहर

बड़ा इमामबाड़ा लखनऊ
बड़ा इमामबाड़ा लखनऊ

लखनऊ की नवाबी विरासत का उल्लेख किए बिना उस पर एक लेख लिखना संभव नहीं है। नवाबों ने तत्कालीन अवध पर एक सदी से भी अधिक समय तक शासन किया, जो लखनऊ के इतिहास में सबसे शानदार समय रहा। इस समय के दौरान, शहर कला, नृत्य, संगीत, कविता और वास्तुकला के साथ एक सांस्कृतिक केंद्र के रूप में उभरा।

अपनी नज़ाकत, नफ़ासत और तहज़ीब के लिए प्रसिद्ध, लखनऊ अभी भी नवाबों के सुनहरे दिनों से अपने सांस्कृतिक मूल्यों को बरकरार रखता है। यहां तक कि लखनवी भाषा की गहराई आज भी उस समृद्ध सांस्कृतिक उत्कृष्टता की बात करती है जो इस युग के दौरान शहर ने देखा था। आज भी उन समृद्ध बारीकियों को बरकरार रखना वाकई इस शहर को नवाबों की अमूल्य धरोहर और नए ज़माने के पथ प्रदर्शक के रूप में रोशन करता है।

लखनऊ का रूमी दरवाज़ा और इमामबाड़ा
Mother Of Mango Tree- जानें कहानी उत्तर प्रदेश के उस हेरिटेज पेड़ की जिससे 'दशहरी आम' का सफर शुरू हुआ
लखनऊ का रूमी दरवाज़ा और इमामबाड़ा
Lucknow Shakes - बादाम शेक के हैं शौक़ीन - लखनऊ की इन 5 पुरानी दुकानों का चिल्ड शेक ट्राय किया क्या ?
लखनऊ का रूमी दरवाज़ा और इमामबाड़ा
Lucknow Kalai Art - जाने लखनऊ की पारंपरिक कला 'कलई' के बारे में और कैसे काम करते थे कलईवाले
लखनऊ का रूमी दरवाज़ा और इमामबाड़ा
Chuka Beach - क्या आप जानते हैं लखनऊ से 263 किलोमीटर दूर पीलीभीत में मौजूद है यूपी का इकलौता बीच

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com