अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने सरकार को दी चेतावनी, 7 फरवरी से स्कूल नहीं खोले तो ऑनलाइन क्लास भी होगी बंद

अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने सरकार को दी चेतावनी, 7 फरवरी से स्कूल नहीं खोले तो ऑनलाइन क्लास भी होगी बंद

प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने कहा कि बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई से चिड़चिड़े हो रहे हैं।

राजधानी के निजी स्कूल प्रबंधकों ने प्रदेश सरकार को चेतवानी देते हुए कहा है कि अगर 7 फरवरी से स्कूल नहीं खोले गए तो वो ऑनलाइन पढ़ाई भी बंद कर देंगे। हालांकि इसके लिए स्कूलों पर कोई दबाव नहीं बनाया जाएगा। अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने बुधवार को प्रेस वार्ता कर कहा कि मॉल, बाजार सब खुले हैं, ऐसे में स्कूलों क्यों बंद रखा गया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने कहा कि हमने सब तक सरकार का हर आदेश माना है। अब स्कूलों की हालत खराब हो रही है और बच्चों की पढ़ाई बाधित है। इस संबंध में सीएम को पत्र लिखकर 7 फरवरी से स्कूल खोलने की मांग की गई है। अगर स्कूल नहीं खुले तो ऑनलाइन पढ़ाई भी बंद कर दी जाएगी।

स्कूल एसोसिएशन का कहना है कि सरकार से नहीं मिला कोई सहयोग

अनिल अग्रवाल ने कहा कि पेरेंट्स भी कह रहे हैं की बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई से चिड़चिड़े हो रहे हैं। कोरोना काल में स्कूलों ने लोगो की मदद की है लेकिन सरकार की ओर से स्कूलों को सहयोग नहीं दिया गया। दो साल से स्कूलों की फीस भी नहीं बढ़ाई गई है। इस बार भी सरकार ने फीस बढ़ाने पर रोक लगाई है। स्कूल वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं, ऐसे में अप्रैल से शुरू होने वाले सेशन में फीस बढ़ाई जाएगी।

क्यों जरूरी है स्कूलों को खोलना ?

फीस वृद्धि हो, चुनाव में स्कूली वाहनों का इस्तेमाल हो, या शिक्षा के अधिकार के तहत दाखिले के लिए स्कूलों को फीस प्रतिपूर्ति में देरी, सरकार ने बिना अधिकार के अत्यधिक नियंत्रण कर लिया है। उन्होंने कहा, “स्कूलों को फीस नहीं बढ़ाने के सरकार के निर्देश को स्वीकार नहीं किया जाएगा। हम यूपी फीस रेगुलेशन एक्ट के मुताबिक फीस बढ़ाएंगे।”सेंट जोसेफ ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के प्रबंध निदेशक अग्रवाल ने कहा। “उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में निजी स्कूलों के पास अपने स्कूलों को बंद करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है, अगर राज्य सरकार उन्हें फीस बढ़ाने और 7 फरवरी से पूरी तरह से फिर से खोलने की अनुमति नहीं देती है।”

अग्रवाल ने कहा कि महामारी के कारण स्कूलों को भारी वित्तीय नुकसान उठाना पड़ा, क्योंकि कई छात्रों ने स्कूल छोड़ दिया था। “हमारे शिक्षकों और कर्मचारियों का कोई वेतन संशोधन नहीं था क्योंकि स्कूलों को फीस बढ़ाने की अनुमति नहीं थी। यह उनके प्रदर्शन को प्रभावित कर रहा है। इस कोशिश के समय में, कुछ सदस्य स्कूल बंद करने के लिए मजबूर होंगे यदि सरकार उन्हें लगातार तीसरे वर्ष भी फीस बढ़ाने की अनुमति नहीं देती है। “
सिटी मोंटेसरी स्कूल की अध्यक्ष, गीता गांधी किंगडन ने भी कहा, “तीन साल से फीस में कोई वृद्धि नहीं हुई है। और महामारी में काम कर रहे शिक्षकों और कर्मचारियों को वेतन वृद्धि से इनकार करना मुश्किल है।”

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com