डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam)
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam)

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के 6 वैज्ञानिक योगदान जिन्होंने भारत की तकनीकी उड़ान को पंख दिए

राष्ट्रपति पद से लेकर भारतीय मिसाइलों के विकास तक, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने देश में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विभिन्न क्षेत्रों में योगदान दिया है।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam) नाम किसी भी क्षेत्र, धर्म, जाति, पंथ, रंग आदि से आने वाले हर भारतीय की आँखों में गर्व से भरी चमक लाने के लिए काफी है। भारत देश इस कलाम साहब के लिए जितना सम्मान और कृतज्ञता रखता है वह किसी भी चीज से परे है। कोई भी विज्ञान, अंतरिक्ष और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में डॉ कलाम के योगदान को कभी नहीं भूल सकता। उन्होंने देश के लिए जो किया, यही कारण है कि आज भारत विश्व परमाणु ऊर्जा, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी और कई अन्य क्षेत्रों में अन्य देशों को कठिन टक्कर दे पा रहा है।

भारत के राष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी लेने से लेकर भारतीय मिसाइलों के विकास का नेतृत्व करने तक, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने देश में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विभिन्न क्षेत्रों में योगदान दिया है। अपनी कार्य अवधि के दौरान उन्होंने 2 महत्वपूर्ण अंतरिक्ष अनुसंधान संगठनों के साथ काम किया। पहला है DRDO - रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन और दूसरा है ISRO- भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन।

आज उनके जन्मदिवस पर हम याद करेंगे विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में डॉ कलाम के 5 महत्वपूर्ण योगदान।

भारत का पहला स्वदेशी सैटेलाइट लांच व्हीकल (Satellite Launch Vehicle)

Satellite Launch Vehicle
Satellite Launch Vehicle

उस समय, भारत सैटेलाइट लॉन्च करने और अंतरिक्ष और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास के बारे में शायद ही बात करता हो, तब एक व्यक्ति आया और स्पेस ऑर्गेनाइजेशन का भविष्य बदल दिया। एपीजे अब्दुल कलाम को ISRO में परियोजना निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था और उनके नेतृत्व में देश ने ग्राउंड जीरो से स्वयं के एसएलवी (SLV) का निर्माण करना संभव कर लिया। जुलाई 1980 में, SLV III ने रोहिणी सैटेलाइट को पृथ्वी के निकट की ऑर्बिट में इंजेक्ट किया, जिससे देश एक विशिष्ट स्पेस क्लब का सदस्य बन गया।

बैलिस्टिक मिसाइलों का विकास: (Development of Ballistic missiles)

Development of Ballistic missiles
Development of Ballistic missiles

एक और माइलस्टोन तब भारत ने अपने नाम किया जब डॉ. कलाम ने देविला और वैलिएंट (Devila and Valiant) के निर्देशन की स्थिति का नेतृत्व किया। इसका उद्देश्य एसएलवी (SLV) कार्यक्रम की सफल तकनीक के आधार पर बैलिस्टिक मिसाइलों का उत्पादन करना था। यह तब ही था जब कई शक्तिशाली मिसाइलों के साथ AGNI (intermediate range ballistic missile) और PRITHVI (surface to surface missile) जैसी मिसाइलों का निर्माण किया गया था और इसीलिए डॉ कलाम ने भारत के मिसाइल मैन (Missile Man) का खिताब अर्जित किया।

पोखरण परमाणु टेस्ट: (Pokhran nuclear test)

Pokhran nuclear test
Pokhran nuclear test

यह भारत के लिए अविस्मरणीय क्षण था जब देश अंततः एक परमाणु शक्ति के रूप में उभरा। डॉ. कलाम तब तत्कालीन प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में कार्यरत थे, और पोखरण (Pokhran) में कई परमाणु परीक्षणों के पीछे उनका ही इंटेलिजेंस थी जिसने पूरी दुनिया को चौंका दिया था। जुलाई 1992 से जुलाई 1999 तक DRDO के CEO के रूप में, उन्होंने पोखरण-2 (Pokhran-II) विस्फोटों का निर्देशन किया। उनके प्रयासों और समर्पण के परिणामस्वरूप भारत अब परमाणु-सशस्त्र राज्यों की सूची में है।

पोखरण-2 (Pokhran-II) परीक्षणों ने भारत की 'नो फर्स्ट यूज' (No first use) नीति का मार्ग प्रशस्त किया - यह एक प्रतिज्ञा थी कि भारत कभी भी परमाणु प्रथम-स्ट्राइक नहीं करेगा और गैर-परमाणु संचालित राज्यों के खिलाफ परमाणु हथियारों का उपयोग नहीं करेगा, और ऐसी मटेरियल और प्रौद्योगिकियों की एक्सपोर्ट को सख्ती से नियंत्रित करेगा।

चिकित्सा और स्वास्थ्य देखभाल में डॉ कलाम का योगदान:

कलाम-राजू स्टेंट (Kalam-Raju-Stent)
कलाम-राजू स्टेंट (Kalam-Raju-Stent)

यदि आप सोचते हैं कि डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने केवल इंजीनियरिंग और वैमानिकी क्षेत्र में योगदान दिया है तो आप गलत हैं, क्योंकि चिकित्सा में भी उनका योगदान महत्वपूर्ण है। उन्होंने हृदय रोग विशेषज्ञ सोमा राजू (Soma Raju) के साथ सहयोग किया और बजट के अनुकूल कोरोनरी स्टेंट बनाया। इसे व्यापक रूप से कलाम-राजू स्टेंट (Kalam-Raju-Stent) भी कहा जाता है। दोनों ने वर्ष 2012 में भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर स्वास्थ्य प्रशासन के लिए एक टैबलेट कंप्यूटर डिजाइन किया, जिसे कलाम-राजू टैबलेट (Kalam-Raju tablet) के नाम से जाना जाता है।

हल्के लड़ाकू विमान परियोजना:

light combat aircraft project
light combat aircraft project

डॉ. कलाम एक लड़ाकू विमान उड़ाने वाले नेतृत्व की स्थिति में पहले भारतीय बने। मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से वैमानिकी इंजीनियरिंग में विशेषज्ञता के बाद, उन्होंने भारत के हल्के लड़ाकू विमान परियोजना के साथ गहराई से जुड़े रहे। वह लड़ाकू विमान उड़ाने वाले पहले भारतीय राष्ट्राध्यक्ष भी बने।

मोटर विकलांग रोगियों के लिए हल्के कॉलिपर्स का विकास

floor reaction calipers
floor reaction calipers

जबकि भारत को डब्ल्यूएचओ द्वारा पोलियो मुक्त घोषित किया गया है, 1995 और 1996 में, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम और उनकी टीम ने ऑर्थोसिस कैलिपर्स का उत्पादन करने के लिए अंतहीन काम किया, जो बाजार में उपलब्ध वजन के 1/10 वें वजन का था। इन फ्लोर रिएक्शन कैलीपर्स (floor reaction calipers) ने स्पीड और चलने को कम दर्दनाक और बोझिल बना दिया, जिससे बच्चों को मदद के बिना अधिक स्वतंत्र रूप से और आसानी से चलने में आसानी हुई।

आज देश डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को उनकी 7वीं पुण्यतिथि पर याद कर रहा और विनम्र श्रद्धांजलि दे रहा है। उनका जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु राज्य के रामेश्वरम् जिले के धनुषकोड़ी गांव में हुआ था। अब्दुल कलाम 7 साल पहले 27 जुलाई 2015 को शिलॉन्ग में IIM के कार्यक्रम को सम्बोधित करने पहुंचे थे। कार्यक्रम में अपना भाषण देते वक्त वह अचानक बेहोश होकर स्टेज पर गिर गए थे। उसके बाद उनको एक निजी अस्पताल में ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। अब्दुल कलाम की हृदय गति रुकने के कारण मृत्यु हो गई थी।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam)
World IVF Day - कहानी डॉ. सुभाष मुखोपाध्याय की जिन्होंने भारत को IVF तकनीक का उपहार दिया
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam)
सईदा बानो - एक स्वतंत्र एवं बेबाक़ शख़्सियत जो भारत की पहली महिला रेडियो न्यूज़ रीडर बनीं
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam)
भारत की इन 8 सुपर दादियों की कहानी देश के युवाओं को साहस और निडरता से जीवन जीने की प्रेरणा देती है
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam)
उत्तर भारत में बॉलीवुड से पहले 'नौटंकी' ही मनोरंजन का बड़ा माध्यम था जो अब अपनी विरासत खो रहा है
डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद (A. P. J. Abdul Kalam)
लक्ष्मणपुर से लखनऊ - जानिये नामों और उपाधियों के माध्यम से लखनऊ का ऐतिहासिक सफर

To get all the latest content, download our mobile application. Available for both iOS & Android devices. 

Related Stories

No stories found.
Knocksense
www.knocksense.com